Breaking News
Home / राशी फल / अमरनाथ गुफा में छुपे हुए हैं कई रहस्य, जानिए इससे जुडी हुई रोचक जानकारी

अमरनाथ गुफा में छुपे हुए हैं कई रहस्य, जानिए इससे जुडी हुई रोचक जानकारी

भगवान शिव जी को देवों का देव महादेव कहा जाता है, यह स्वयंभू है, इनके कई नाम है, भगवान शिव जी के भक्त इनको कई नामों से बुलाते हैं, शास्त्रों के अनुसार देखा जाए तो भगवान शिव जी के बारे में बहुत सी बातों का उल्लेख किया गया है, ऋग्वेद में भी भगवान शिव जी का गुणगान मिलता है, वैसे हमारे देश में ऐसे बहुत से पवित्र तीर्थ स्थल और धाम है जिनकी अपनी-अपनी विशेषता है, इन्हीं धामों में से एक अमरनाथ धाम है, इसको भगवान शिव जी का धाम कहा जाता है, अमरनाथ धाम के संबंध में ऐसा माना जाता है कि यहां पर अमरनाथ गुफा के अंदर भगवान शिव जी साक्षात विराजमान है।जो भी श्रद्धालु अमरनाथ धाम में दर्शन करने के लिए आता है उनको स्वर्ग जैसा अनुभव होता है, शिवभक्त यहां के दर्शन के लिए भारी संख्या में दूर-दूर से आते हैं, कुछ लोगों का तो ऐसा मानना है कि यहां पर आकर मोक्ष की प्राप्ति होती है, अमरनाथ गुफा के अंदर बर्फीली बूंदों से बनने वाला बर्फ का शिवलिंग देखने के लिए लोग देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी आते हैं और इसके दर्शन पाकर धन्य हो जाते हैं।

अमरनाथ गुफा से संबंधित जानकारी

  • जो भी शिव भक्त अमरनाथ धाम में आता है उसको अमरनाथ की गुफा में प्रकृति के चमत्कार के दर्शन के लिए 14000 फुट की ऊंचाई को पार करना पड़ता है और मार्ग में उनको बहुत सी बाधाओं का सामना भी करना पड़ता है, अमरनाथ गुफा में पार्वती पीठ है जिसको 51 शक्तिपीठों में से एक माना गया है, ऐसा बताया जाता है कि यहां पर भगवती सीता का कंठ का भाग गिरा था।

  • अमरनाथ धाम कश्मीर की खूबसूरत वादियों में स्थित है और यह प्राकृतिक रूप से निर्मित है, इस गुफा की लंबाई लगभग 160 फीट बताई जाती है और इसकी चौड़ाई 100 फ़ीट है, वैसे देखा जाए तो कश्मीर में 45 शिव धाम, 3 ब्रह्मा धाम, 60 विष्णु धाम. 22 शक्ति धाम और 700 नाथ धाम के अलावा असंख्य तीर्थ स्थल मौजूद है परंतु अमरनाथ धाम को इन सभी में सबसे अधिक महत्व दिया जाता है।
  • अमरनाथ गुफा में जो शिवलिंग स्थित है उसकी ऊंचाई चंद्रमा के घटने-बढ़ने के साथ-साथ घटती बढ़ती रहती है, पूर्णिमा के दिनों में शिवलिंग का आकार पूरा हो जाता है जबकि अमावस्या में शिवलिंग का आकार छोटा हो जाता है।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *