Breaking News
Home / सेहत / पायरिया (Pyorrhea) का जड़ से खातमा सिर्फ 3 दिन में

पायरिया (Pyorrhea) का जड़ से खातमा सिर्फ 3 दिन में

पायरिया (Pyorrhea) का जड़ से खातमा सिर्फ 3 दिन में………..

 

पायरिया (Pyorrhea) दांतों की एक खतरनाक बिमारी है. दांतों अधिक दर्द होने लगता है. दर्द से परेशान होकर हम लोग अपने दांत को निकलवाने लगते है. इससे इंसान समय से पहले ही बूढ़ा दिखाई देने लगता है. यह लापरवाही के कारण हो जाती है.

पायरिया (Pyorrhea) का मुख्य कारण दाँतों का समय पर साफ न करना है. या फिर किसी वस्तु का सेवन करने के बाद अपने दाँतो को साफ न करना है. दाँतों को साफ न करने से दाँतों में काई लग जाती है . यही काई पायरिया बीमारी का रूप ले लेती है. इस बिमारी का इलाज आप घर पर ही कर सकते है.

पायरिया (Pyorrhea) का जड़ से खातमा सिर्फ 3 दिन में

टमाटर तथा गाजर का रस निकालकर पीने से दाँतों की बीमारी ठीक हो जाती है. तथा सरसों के तेल की 2-4 बून्द लेकर बारीक़ नमक डालकर इसका मंजन करने से दाँत का दर्द ठीक हो जाता है .

फिटकरी :

मसूड़े में खून निकलने थोड़ी सी फिटकरी भूनकर इसको बारीक़ पीस कर इसमें हल्दी मिलाकर इसका चूर्ण तैयार कर ले. रोजाना मंजन के रूप में प्रयोग करने से मसूड़े का खून बंद हो जायेगा. दाँत भी साफ हो जायेंगे.

तेजपात का चूर्ण तैयार करके. सप्ताह में 1-2 बार प्रयोग करने से दाँत बिल्कुल दूध के भाती सफेद या चमकते हुए दिखाई देंगे .

तुलसी के पत्तों को धुप में सुखाकर बारीक़ पीसकर इसका चूर्ण तैयार कर ले. समान मात्रा में सरसों का तेल डालकर लेप तैयार कर ले. इस लेप को अपने हाथों की ऊँगली या ब्रश पर लगाकर दांत साफ करने से पायरिया ख़त्म हो जाती है. मुँह से बदबू दूर हो जाती है.

जब दाँत हिलने लगे तो दाँत निकलवाने नही चाहिए. आम के पत्तों से इसका उपचार किया जा सकता है. आम के पत्तों को रोजाना चबाकर कुछ समय बाद थूक देना चाहिए. कुछ दिन बाद मनुष्य के दाँत हिलना बंद हो जाएंगे .

लोंग का तेल :

दाँत खोखले होने पर दाँतों में दर्द होने लगता है. लोंग के तेल में थोड़ी सी रुई को गिला करके अपने दाँत के खोड़ में लगाये. डॉक्टर भी इस तेल उपयोग करते है. इसके उपयोग करने से दाँत का कीड़ा मर जाता है. उस जगह पर दाँतों में चाँदी भर दी जाती है. जिससे ये खोखल बंद हो जाता है .

दर्द होने पर दालचीनी का तेल दाँतों में लगाने से जल्दी आराम मिलता है. अमृतधारा में रुई को डुबोकर दर्द वाले स्थान पर लगाने से भी आराम मिलता है .

नौसादर का चूर्ण :

दन्त दर्द को ख़त्म करने के लिए नौसादर का चूर्ण बना ले. दर्द वाले स्थान पर मसलने से दर्द ख़त्म हो जाती है.
सुबह उठकर अपने दाँतों को साफ करने के बाद काले तिल को खाए. कुछ समय बाद पानी पिए. यह काम रात्रि को सोने से पहले भी कर सकते है. रोज करें पायरिया की बीमारी दूर हो जाएगी. दांत दर्द भी ठीक हो जायेगा.

बताये गये सभी प्रयोग दाँतों के लिए बहुत ही लाभकारी है. इन में से एक का भी उपयोग करने से दाँतों की हा प्रकार की बीमारी ठीक हो जाएगी.

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *