Anemia and its home remedies , खून की कमी और इसके घरेलू उपचार……….

Anemia and its home remedies , खून की कमी और इसके घरेलू उपचार……………..

 

किसी कारण वश शरीर का खून घट जाये तथा खून में जो लाल कण होते हैं, उनकी संख्या घट जाये तो उसे ही रक्त होनता या रक्ताल्पता अर्थात खून की कमी कहा जाता है। अधिक मैथुन, श्वेत प्रदर, क्षय, यकृत या विटामिनों की कमी, रक्तस्राव (चोट लगने से) होना, टायफाइड बुखार या कोई घाव हो जाने पर प्रसव के पहले या बाद में अत्यधिक रक्तस्राव, बवासीर, पौष्टिक खाद्य पदार्थो का न मिलना, पुराना अजीर्ण, अन्य संक्रामक रोग जैसे-मलेरिया, डिप्पीरिया, न्यूमोनियां आदि, के कारण यह रोग हो जाता है।

रोगी का चेहरा कान्तिहीन, त्वचा पीली सफेद या हरी तथा आँखें धँसी हुई, मुख और जीभ सफेद तथा हाथ व पैरों के नाखून सफेद और रक्तशून्य दिखलायी पड़ते हैं। इसके अतिरिक्त अजीर्ण, भूख न लगना, नींद न आना, कब्ज, कलेजा धड़कना, थोड़े परिश्रम से ही थक जाना हाँफने लगना, श्वास-कष्ट, हाथ पैर फूल जाना, सिर में चक्कर आना, हथेलियों तथा तलवों में जलन, शरीर का ताप कम हो जाना, शरीर में किसी भाग से रक्तस्त्राव होना तथा कभी-कभी दिल के दौरे पड़ना आदि लक्षण प्रकट होते हैं।

यह रोग आमतौर से ठीक हो जाता है। पुराने रोग में कामला (जान्डिस) और जलोदर रोग हो जाता है।

उपचार- Treatment:- 

प्रायः इस रोग का उपचार लौहयुक्त औषधियों जैसे-लोहासव द्राक्षासव आदि से किया जाता है।  इन्हीं औषधियों के उचित चिकित्सा व्यवस्था पत्र में उचित आहर-विहार एवं पथ्य से रोगी पूर्णतः स्वस्थ हो जाता है।

एक व्यक्ति घर पर हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ने के लिए निम्न चीज कर सकता है, जिसमें कई तरह के विटामिन और पोषक तत्व शामिल हैं:-

1) आयरन के सेवन को बढ़ाएं (Increase Iron Intake)

आयरन रक्त उत्पादन के लिए एक आवश्यक तत्व है। आपके शरीर का लगभग 70 प्रतिशत आयरन आपके रक्त की लाल रक्त कोशिकाओं में पाया जाता है जिसे हीमोग्लोबिन कहा जाता है।

हीमोग्लोबिन के कम स्तर वाले व्यक्ति अधिक आयरन युक्त खाद्य पदार्थ खाने से लाभान्वित हो सकते हैं। आयरन हीमोग्लोबिन के उत्पादन को बढ़ावा देने का काम करता है, जो अधिक लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में भी मदद करता है।

आयरन युक्त खाद्य पदार्थों में शामिल हैं:,मांस और मछली ,अंडे ,साग, सभी प्रकार के
ब्रोकोली,मटर,गोभी,अंकुरित फलियां,टमाटर,आलू,मक्का,बीट,गोभी,नट्स और बीज,सूखे मेवे,,खजूर और अंजीर,सोया उत्पादों, टोफू और सोया दूध
मूंगफली और पीनट बटर

2) फोलेट का सेवन बढ़ाएं (Increase Folate Intake)

फोलेट, या फोलिक एसिड – जिसे विटामिन-B9 के रूप में भी जाना जाता है, आपके शरीर को नई कोशिकाओं का उत्पादन करने में मदद करता है और लाल रक्त कोशिका के गठन के लिए आवश्यक है। यदि आपको पर्याप्त फोलिक एसिड नहीं मिलता है तो आपका हीमोग्लोबिन कम हो जाएगा। इसे एनीमिया कहा जाता है।

फोलेट के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं:,अंडे,एवोकाडो,चुकंदर,पपीता,केले,चावल,राज़मा,मूंगफली,हरी पत्तेदार सब्जिया, पालक और ब्रोकोली,खट्टे फल, संतरे, अंगूर और नींबू

3) विटामिन-B12 का सेवन बढ़ाएं (Increase Vitamin-B12 Intake)

विटामिन-B12 शरीर के कई कार्यों के लिए महत्वपूर्ण हैं। लेकिन विटामिन-B12 की सबसे महत्वपूर्ण भूमिकाओं में से एक लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में है, ये कोशिकाएं हीमोग्लोबिन नामक प्रोटीन की मदद से पूरे शरीर में ऑक्सीजन ले जाती हैं।

विटामिन-B12 की कमी से एनीमिया, या रक्त प्रवाह में लाल रक्त कोशिकाओं और हीमोग्लोबिन की मात्रा में कमी हो सकती है।

विटामिन-B12 के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं:,मांस,मछली,अंडे,मशरूम,डेयरी उत्पाद जैसे दूध, दही, पनीर
विटामिन B12 प्राकृतिक रूप से पशु उत्पादों में पाया जाता है, लेकिन यह पौधे आधारित खाद्य पदार्थों में मौजूद नहीं होता है।

4) विटामिन-C का सेवन बढ़ाएं (Increase Vitamin C Intake)

विटामिन-C शरीर को बेहतर दर पर आयरन को अवशोषित करने में मदद करता है, इसके अलावा विटामिन-C लाल रक्त कोशिकाओं को संश्लेषित करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

आयरन हीमोग्लोबिन का मुख्य हिस्सा है, इसलिए विटामिन-C का सेवन करे जो आयरन अवशोषण को बढ़ाने में मदद कराता है।

विटामिन-C के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं:,खट्टे फल, संतरे और अंगूर,आम,पपीता,अनानास,स्ट्रॉबेरी,तरबूज,ब्रोकोली, फूलगोभी,हरी और लाल मिर्च,पालक, पत्ता गोभी और अन्य पत्तेदार साग,शकरकंद और सफेद आलू,टमाटर,कद्दू

मल्टीविटामिन के बारे में सोचे:

यदि आप अपने द्वारा खाए जा रहे भोजन से पर्याप्त विटामिन प्राप्त नहीं कर पाते हैं, तो अपने डॉक्टर से पूछें कि क्या आपके लिए एक मल्टीविटामिन सही हो सकता है।

दोस्तों अगर आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे जनहित के लिए अपने फेसबुक पर शेयर जरुर करे .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *