जोड़ों और घुटनों के दर्द का इलाज कैसे करे आसान देसी नुस्खे

जोड़ों और घुटनों के दर्द का इलाज कैसे करे  आसान देसी नुस्खे…………….

 

उम्र बढ़ने के साथ अक्सर लोगों में घुटनों और जोड़ों में दर्द होने लगता है| जो गठिया का लक्षण (Arthritis Symptoms) हो सकता है| घुटोनों एंव जोड़ों का दर्द आज के समय में बहुत बड़ी परेशानी है जो उम्र देख कर नहीं आती। घुटनों में दर्द होना एक बहुत ही आम समस्या है| जो लगातार घर्षण के कारण के साथ घुटनों के घिस जाने की वजह से होती है ये समस्या ज़्यादातर बुजुर्गों और व्यस्कों द्वारा महसूस की जाती है|

जोड़ों और घुटनों के दर्द का इलाज कैसे करे –  
महिलाओं में पुरुषों से अधिक घुटनों में दर्द की परेशानी होती है| और सबसे ज्यादा यह समस्या सर्दियों में सुनने को मिलती है| जोड़ों का दर्द शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकता है| यह दर्द घुटनों, बाजुओं, कूल्हों, कोहनियों और गर्दन पर हो सकता है| गठिया की वजह यूरिक एसिड को माना जाता है| शरीर में किसी भी हिस्से में uric acid की मात्रा बढ़ जाने पर इसके कण घुटनों और अन्य जोड़ों में जमा होने लगता है जिसके वजन से जोड़ों में दर्द होने लगता है| अगर गठिया की बीमारी हो तो रात के समय जोड़ों का दर्द बढ़ जाता है|

अगर सुबह के समय अकड़न होती है या आपके घुटनों में दर्द रहता है तो सही समय पर इसकी जांच करवाना जरूरी है| अगर यह गठिया का रोग है तो जल्दी से जल्दी इसका इलाज करना चाहिए नहीं तो इससे आप के जोड़ों को नुकसान भी हो सकता है| आज इस लेख में आप को आयुर्वेदिक उपचार और घरेलू नुस्खे के कुछ आसान तरीके बताने जा रहे है| इस देसी उपायों के इस्तेमाल से आप गठिया जैसे बीमारी से भी राहत पा सकते है|

जोड़ों और घुटनों के दर्द का इलाज घरेलू नुस्खे से कैसे करे
गाजर, नींबू
जोड़ों के लिगामेंट्स मजबूत करने और दर्द से राहत पाने के लिए गाजर को पीस कर उसमें नींबू का रस मिलाकर सेवन करे| इस उपाय को रोजाना करने से दर्द में आराम मिलता है|

तिल का तेल, काली मिर्च
Joints pain से तुरंत राहत पाने के लिए तिल के तेल में काली मिर्च को अच्छे से गर्म कर लें फिर ठंडा होने के बाद हल्के हाथों से मसाज करे|

अखरोट
घुटनों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए 10 से 15 अखरोट की गिरी भिगो कर अगली सुबह खाली पेट सेवन करे| इस उपाय को दो महीने लगातार करने से गठिया का रोग खत्म हो जाता है|

बथुआ के पत्ते
बथुआ के ताजा पत्तों का रस रोजाना 15 ग्राम सुबह और शाम खाली पेट पीने से गठिया के दर्द से हमेशा के लिए निजात मिल जाती है| इसका सेवन करने के 2 घंटे बाद तक कुछ भी चीज खाए पिए नहीं|

दूध, पानी, लहसुन
दर्द से जल्दी राहत पाने के लिए 100 ग्राम दूध या पानी के साथ 10 कलियां लहसुन की मिला कर सेवन करे|

लहसुन, सरसों का तेल
4 से 5 कलियां लहसुन की पीस कर 1 या 2 चम्मच सरसों के तेल में डालकर अच्छे से पका कर गर्म कर लें| फिर ठंडा होने के बाद इस तेल से जोड़ों की मालिश करने से दर्द से जल्दी छुटकारा मिलेगा|

पानी
गठिया से पीड़ित रोगी को रोजाना कम से कम 5 से 6 लिटर पानी जरूर पीना चाहिए| इससे पेशाब ज्यादा आयेगा और uric acid बाहर निकलेगा|

अमरूद के पत्ते
जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए अमरूद के 4 से 5 नई पत्तियों को पीस कर उसमें थोड़ा काला नमक मिला कर सेवन करे|

जामुन
गठिया के उपचार में जामुन बहुत कारगर है| जामुन के पेड़ की छाल को अच्छे से उबाल कर उसका लेप बना लें फिर इस लेप को घुटनों पर लगाने से गठिया से छुटकारा मिलता है|

नारियल की गिरी
जोड़ों में ताकत बढ़ाने के लिए रोजाना नारियल की गिरी सेवन करे|

गठिया के आयुर्वेदिक घरेलू उपाय और उपचार :  
देसी तरीके से गठिया का इलाज करने के लिए जैतून का तेल बहुत फायदेमंद होता है| गठिया से राहत पाने के लिए इस तेल से मालिश करे|
रोजाना एक चम्मच सौंठ का पाउडर सेवन करने से गठिया में लाभ करता है|

1 गिलास हल्के गुनगुने पानी के साथ एक चम्मच दालचीनी पाउडर और दो चम्मच शहद दिन में दो बार सेवन करे| जो लोग गठिया की वजह से ठीक से चल फिर नहीं पाते उन्हें 30 दिनों के इस्तेमाल से ही काफी दर्द से आराम मिलने लगेगा|
घुटनों और जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए आमलकी का चूर्ण, अश्वगंधा और शतावरी को मिला कर सुबह पानी के साथ सेवन करे| इस उपाय को लगातार करने से जोड़ों में मजबूती आती है|
रात को सोने से पहले 1 चम्मच मेथी के बीज पानी में भिगो कर रख दें अगली सुबह को मेथी के बीज पानी से निकाल कर चबा चबा कर सेवन करे| यह नुस्खा दर्द के उपचार में फायदा करता है|

गठिया के इलाज के रामबाण उपाय
किसी भी तरह की गठिया को ठीक करने के लिए गेहूं के दाने के बराबर चुना लें और रोजाना सुबह खाली पेट 1 कप पानी या दही के साथ मिला कर सेवन करे| यह उपाय को 3 महीने लगातार करने से लाभ होता है| जो लोगों पथरी के रोग से पीड़ित है वो लोग चुने का सेवन ना करे|

योगा से घुटनों और जोड़ों के दर्द का उपचार
आप अपने दिन की शुरुआत योगा से करे| जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए सुबह के समय सूर्य नमस्कार और प्राणायाम करे| बाबा रामदेव के बताये गये योगा भी गठिया के इलाज के लिए कर सकते है|

 दोस्तों जोड़ों और घुटनों के दर्द का इलाज कैसे करे  आसान देसी नुस्खे हिन्दी में का यह लेख आप को कैसा लगा हमे कमेंट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करे|

थायराइड के लक्षण कारण इलाज आसान उपाय और दवा से उपचार

थायराइड के लक्षण कारण इलाज आसान उपाय और दवा से उपचार………

 

थायराइड तितली के आकार की एक ग्रंथि होती है| यह गर्दन के अंदर और कॉलरबोन के ठीक उपर होती है| थायराइड एक तरह की एंडोक्राइन ग्रंथि है जो थय्रोस्किन हार्मोन्स बनाती है| थायराइड की समस्या बच्चों व पुरुषों से ज्यादा महिलाओं को प्रभावित करती है|

थायराइड दो तरह का होता है हाइपोथायरायडिज्म और हाइपर थायराइड| अगर शुरुआत में ही इसे पहचान कर उपाय और दवा की जाए तो इस रोग को बढ़ने से रोका जा सकता है| कुछ लोग इस रोग के इलाज के लिए दवा का सहारा लेते है| लेकिन अंग्रेजी दवा इस रोग को जड़ से खत्म करने में कारगर नहीं है|

थायराइड का इलाज हम बिना दवा के घर पर ही आसानी से रामबाण आयुर्वेदिक इलाज और घरेलू नुस्खे अपना कर भी कर सकते है| थायराइड को कम करने के लिए होम्योपैथिक दवा और बाबा रामदेव पतंजलि की दवा से भी उपाय किये जा सकते है| आज इस लेख में हम जानेंगे

महिलाओं और पुरुषों में थायराइड के प्रमुख लक्षण – Thyroid Ke Lakshan  
थायराइड के रोग में शुरू के लक्षण बालों का झड़ना, नाखून रूखे व पतले होना, और गंजापन|
हाइपर थायराइड के लक्षण दिल की धड़कन तेज होना, अधिक पसीना आना, वजन कम होना और हाथ पैर कपकापना|

हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण चेहरे और आँखों में सूजन होना, जोड़ों गर्दन व सिर में दर्द होना, कब्ज होना, त्वचा रूखी होना, मोटापा बढ़ना|
थायराइड के रोग में बॉडी की इम्युनिटी कमजोर हो जाती है| और रोगों से लड़ने की शक्ति कम होने लगती है|
अगर आप को थायराइड के लक्षण दिख रहे है तो सबसे पहले इसकी जांच करवाए| T3, T4, TSH, जांच से थायराइड का लेवल चेक होता है|
ज़रूर पढ़ें – 18, 21 और 25 के बाद हाइट कैसे बढ़ाये आसान तरीके

थायराइड रोग के कारण – Thyroid Hone ke Karan
अगर यह रोग घर में किसी को हो तो घर के अन्य सदस्यों को भी यह रोग होने का खतरा रहता है|
किसी भी दवा के साइड इफेक्ट होने की वजह से यह समस्या महिलाओं और पुरुष को हो सकती है|
गर्भावस्था के दौरान प्रेगनेट महिला के शरीर में हार्मोन्स में कई बदलाव होते है| जिसके कारण थायराइड की संभावना बढ़ जाती है|
कैप्सूल, टेबलेट या फिर प्रोटीन पाउडर के रूप में सोया उत्पाद का अधिक सेवन करना भी थायराइड होने का कारण बन सकता है|
भोजन में आयोडीन ज्यादा या कम इस्तेमाल करने से थायराइड की समस्या हो सकती है|
प्रदूषण, अधिक तनाव लेना कुछ ऐसे कारण है को इस रोग को बढ़ावा देते है|

थायराइड का इलाज के घरेलू नुस्खे उपचार और दवा 
पानी, जूस
रोजाना 4 से 5 लीटर पानी और 1 से 2 गिलास ताजे फलों का जूस सेवन करे| शरीर में जमी गंदगी बाहर निकलती है|

बादाम और अखरोट
गले की सूजन कम करने के लिए बादाम और अखरोट का सेवन करे इसमें सेलिनियम पाया जाता है और थायराइड के इलाज में बहुत फायदेमंद होता है|

पतंजलि मेडिसिन
थायराइड का इलाज करने के लिए आप दवा पतंजलि से भी ले सकते है| बाब रामदेव के द्वारा दिव्य कांचनार गुग्गुल थायराइड से राहत पाने में कारगर है| यह thyroid medicine टेबलेट के रूप में भी आती है|

अश्वगंधा चूर्ण, गाय का दूध
रोजाना रात को सोने से पहले 1 चम्मच अश्वगंधा चूर्ण को 1 गिलास गाय के हल्के गुनगुने दूध में मिला कर सेवन करे| इस रोग के घरेलू इलाज में आयुर्वेदिक दवा का काम करती है अश्वगंधा चूर्ण आप आसानी से पंसारी की दुकान या पतंजलि स्टोर से ले सकते है|

लौकी का जूस
थायराइड जड़ से खत्म करने के लिए रोजाना सुबह खाली पेट लौकी का जूस सेवन करे| जूस पीने से आधा घंटे पहले और बाद कुछ खाए पिए नहीं|

हल्दी वाला दूध
हल्दी वाला दूध पीने से थायराइड कम करने में मदद मिलती है| हर रोज दूध में हल्दी पका कर सेवन करे और अगर आप हल्दी का दूध नहीं पीना चाहते है तो हल्दी भून कर इसका सेवन कर सकते है|

हरा धनिया
थायराइड का इलाज करने के लिए घरेलू नुस्खे में हरा धनिया बहुत कारगर है| हरे धनिया की चटनी बना कर 1 चम्मच चटनी 1 गिलास पानी में मिला कर सेवन करे| रोजाना इस घरेलू उपाय को करने से थायराइड कंट्रोल में रहता है|

तुलसी और एलोवेरा
तुलसी और एलोवेरा थायराइड के इलाज में काफी फायदेमंद होती है| 2 चम्मच तुलसी के रस में आधा चम्मच एलोवेरा का जूस मिला कर सेवन करे|

होम्योपैथिक मेडिसिन
थायराइड का इलाज करने के लिए होम्योपैथिक दवा भी बहुत असरदार है| थायराइड की होम्योपैथिक दवा का नाम Belladonna 30, Thyroidinum 30, lodum 30, Rakwage R5 है|

डॉक्टर से सलाह और दवा लेने का सही तरीका
थायराइड होम्योपैथिक दवा सेवन करने से पहले किसी Homeopathic डॉक्टर से मिलकर सलाह लें और अपनी परेशानी बताने के बाद दवा लेने की सही मात्रा और सही तरीका जरूर जाने|

आयोडीन
जो लोग थायराइड के रोग से ग्रस्त है उन लोगों को आयोडीन सही मात्रा में लेने चाहिए| और जितना हो सही तरीके से आयोडीन का सेवन करे जैसे की टमाटर, लहसुन और प्याज|

विटामिन ए
इस समस्या से पीड़ित लोग महिला और पुरुष को अपने आहार में Vitamin A ज्यादा लेना चाहिए| हरी सब्जियों और गाजर में विटामिन ए अधिक पाया जाता है| इससे इस रोग को ठीक करने में फाइदा मिलता है|

थायराइड ट्रीटमेंट टिप्स  
थायराइड के रोग से ग्रस्त व्यक्ति को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए इस बात का ध्यान रखना बहुत जरूरी है| सही तरीके से इलाज और परहेज करके इस रोग को जड़ से खत्म कर सकते है|
एक्सरसाइज और योगा करने भी आप हाइपो थायराइड और हाइपर थायराइड कर सकते है सकते है थायरोइड ठीक करने के लिए योगा में उज्जयी प्राणायाम, विपरीतकरणी और म्त्स्यासन योगा करने से भी लाभ होता है|
ज्यादातर महिलाओं में थायराइड की समस्या होती है और गर्भावस्था के दौरान कुछ महिलओं को यह समस्या हो जाती है इसलिए थायराइड के शुरुआत के लक्षण दिखते ही जल्द इलाज शुरू कर देना चाहिए|
अधिक तनाव लेने से बचे तनाव लेने से थायराइड की ग्रंथि पर बुरा असर पड़ता है|
आप अपने आहार में सफ़ेद नमक की बजाय काला नमक या सेंधा का सेवन करे|
तंबाकू, शराब और धूम्रपान सही तरह के नशे से परहेज करे|

दोस्तों थायराइड के लक्षण कारण इलाज आसान उपाय और दवा से उपचार का यह लेख आप को कैसा लगा हमे कमेंट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें|

तनाव दूर करने के आसान तरीके – Best Tips for Tension Free Life

तनाव दूर करने के आसान तरीके – Best Tips for Tension Free Life………….

 

किसी न किसी वजह से जीवन में सबको टेंशन होती ही है और अगर आप अपने मानसिक तनाव से निपटना जानते है तो आप बहुत ही परेशानियों को आने से पहले ही रोक सकते है| आजकल की भाग दौड़ भरी जिन्दगी में मानसिक तनाव एक ऐसी बीमारी है जो किसी को बाक्श नहीं रही है| तनाव एक ऐसा शब्द बन गया है जो सुबह से उठते ही हर कोई महसूस करता है|

तनाव दूर करने के  आसान तरीके – Best Tips for Tension Free Life  
आज के दौर में प्रत्येक व्यक्ति के पास अतिरिक्त कार्य है और कार्य को समय पर पूरा करने के प्रेशर भी| काम समय पर पूरा न हो पाने पर मानसिक तनाव होना सामान्य बात है| व्यक्ति तनाव में घिर जाता है और फिर घर की परेशानी से और तनावग्रस्त हो जाता है| अक्सर तनाव में रहने वाले लोग धीरे-धीरे डिप्रेशन और उदासी की तरफ बढ़ने लगते है| और जीवन में उनकी दिलचस्पी कम होने लगती है बहुत बार ऐसा होता है की छोटी सी परेशानी को सोच-सोच कर हम बड़ा बना देते है|

एक बात आप जरूरी ध्यान रखे की आप जितना अधिक तनाव लेंगे आप की परेशानी उतनी ही बढ़ेगी| टेंशन में व्यक्ति सही फ़ैसला नहीं ले पाता इसलिए आप अपने आप को किसी भी निराशा में न डाले| आज इस लेख में हम जानेंगे की तनाव दूर करने के उपाय क्या है| और टेंशन से कैसे बचे तो इस लेख को ध्यान से पढ़ें| आइये जानते है,

तनाव दूर करने के उपाय – Tension Free कैसे रहे
How to Overcome from stress


1. गाना सुने
टेंशन फ्री रहने के उपायों की बात करे तो गाने सुनने से ब्लड प्रेशर कम, हार्ट रेट नॉर्मल और तनाव दूर हो जाता है| गाने आपके दिमाग और मन को शांत करने में अहम भूमिका निभाता है| इसलिए आप को जब भी टेंशन हो आप अपने पसंद के गाने सुने|

2. समय गुजरे और मज़ाक करे
आप अपने दोस्तों और घर वालों के साथ थोड़ा समय गुजारे और हल्का फुल्का मज़ाक करे| अगर आप की शादी हो चुकी है तो आप अपने बच्चों और जीवन साथी के साथ थोड़ा समय गुजारे इससे आप का मूड अच्छा होगा| और तनाव कम होता है| अगर आप किसी बड़ी परेशानी में फसे हुए है तो आप अपनी परेशानी अपने दोस्तों और परिवार के लोगों को बताये|

3. थोड़ा ब्रेक लें
आप चाहे कोई भी कितना भी जरूरी काम कर रहे हो काम के बीच में हर 1 या 2 घंटे बाद 10 मिनट का ब्रेक जरूर लें| अगर आप काम के बीच में थोड़ा आराम करते है तो आप का ध्यान इधर-उधर नहीं भटकेगा| आराम करना एक बढ़िया तरीका है बॉडी को स्ट्रेच करना| इससे मांसपेशियों का तनाव कम होने लगता है और concentration भी बढ़ती है|

4. अपनी सोच सकारात्मक रखे
हमारी सोच हमारे काम और मूड को प्रभावित करती है| अगर आप अपनी सोच सकारात्मक रखेंगे तो आप तनाव से दूर रहेंगे और अगर कभी तनावपूर्ण बुरा समय आया आप के सामने तो आप उसे बाहर निकाल सकेंगे| टेंशन फ्री लाइफ जीने के लिए आप अपनी सोच को ऐसा बनाये की आप आसानी से किसी भी समस्या का सामना कर सके|

5. प्रक्रति
आप अपने आप को प्रक्रति से जोड़े| प्रक्रति के करीब होने से आपका दिमाग और शरीर दोनों ही शांत रहते है| तनाव को दूर करने के लिए थोड़ी हसी मज़ाक की वीडियो देखना बहुत लाभदायक होता है|

6. गरम या ठंडे पानी से नहाये
अगर आप कभी ज्यादा तनाव में हो तो गरम या ठंडे पानी से स्नान करे और अपने आप को तरोताजा करे| मन हो शांत करने और मांसपेशियों को आराम देने का यह तरीका आसान है|

7. सिर की मालिश
अधिक तनाव लेने से नींद न आना और सिर दर्द होना जैसी समस्या होने लगती है| सिर की मालिश करना बेहतरीन उपाय है| सिर की मालिश करने से खून का प्रेशर बढ़ने लगता है| जो सिर दर्द को रोकने, तनाव से लड़ने और नींद लाने का अच्छा उपाय है|

8. पालतू जानवर
पालतू जानवर के साथ कुछ समय बिताने से मूड सही होने लगेगा| क्यूंकि घर के पालतू जानवरों से लगाव और स्नेह होता है| इनसे हमे प्यार और खुशी मिलती है| आप आने आपको टेंशन से दूर करना हो या मूड अच्छा करना हो तो यह उपाय बहुत फायदेमंद है|

9. पोषक तत्व
फास्ट फूड खाने की बजाय पोषक तत्वों से भरपूर पोष्टिक खाना सेवन करे और ज्यादा से ज्यादा पानी पिए| इससे आपका मूड भी अच्छा रहेगा और शरीर भी स्वस्थ रहेगा|

10. खुशनुमा माहौल
अधिक टेंशन वाले माहौल में व्यक्ति दुख का शिकार और जल्दी निराश हो जाता है| इसलिए ध्यान रहे आपके आसपन का माहौल खुशनुमा रहे|

व्यायाम से टेंशन फ्री कैसे रहे
तनाव से राहत पाने और मन का एकाग्र करने के लिए रोज 10 से 15 मिनट ध्यान लगाये| मॉर्निंग इवनिंग वॉक, एक्सरसाइज, मैडिटेशन, और योगा कुछ ऐसी चीजें है तो सही तरीके से कि जाए तो तनाव को दूर करने में मदद मिलती है|

तनाव (Tension) से कैसे बचे
अगर आप किसी परेशानी की वजह से तनाव में है तो हो चुकी है उसे तो आप बदल नहीं सकते या फिर भविष्य में होने वाली घटना के लिए परेशान है तो वो आपके बस में नहीं है| ऐसे में किसी भी चीज के लिए टेंशन लेने से कोई फाइदा ही नहीं है जो आपके हाथ में ही नहीं हो| आप से अगर जाने या अनजाने में कोई भी गलती हो गई है तो उसे स्वीकार करे और ईश्वर पर भरोसा रखते हुए आगे बढ़े|

तनाव कम करने के लिए कुछ लोग दवा का सहारा लेते है तो कुछ लोग शराब और सिगरेट की आदत डाल लेते है| यह चीजें टेंशन को और बढ़ावा देती है| इसलिए किसी भी तरह की नशीली चीज के सेवन से दूर रहे|

 दोस्तो तनाव दूर करने के आसान तरीके – Best Tips for Tension Free Life  का यह लेख आप को कैसा लगा हमें कमेंट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें|

खराब पाचन शक्ति ठीक करने के 5 आसान घरेलू उपाय और देसी नुस्खे

खराब पाचन शक्ति ठीक करने के 5 आसान घरेलू उपाय और देसी नुस्खे…………..

 

स्वस्थ शरीर पाने के लिए पाचन ठीक होना बहुत जरूरी है| अगर पेट में ही गड़बड़ी हो तो शरीर को कई बीमारियां घेर लेती है| हम जो कुछ भी खाते है उसे पाचन तंत्र शरीर में पहुंचाता है| पाचन तंत्र भोजन को ऊर्जा में बदलकर शरीर को शक्ति प्रदान करता है| और शरीर को जरूरी पोषण तत्व देता है| और हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है|

आज के समय में पाचन की समस्या को लेकर सभी लोग परेशान रहते है, हर एक व्यक्ति स्वादिष्ट भोजन करना चाहता है| पर पेट की समस्या को लेकर लोग अपनी इच्छा अनुसार भोजन नहीं कर पाते है| क्यूंकि हमारी अस्वास्थ्य जीवनशैली हमारे आहार को खराब करते है| जिससे हमारा पाचन तंत्र खराब होता है| यह लंबे समय तक विभिन्त्र आस्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है| जैसे की अपच, कब्ज, अल्सर, दुबलापन, मोटापा, बदहजमी और पेट में गैस होने का मतलब है की पाचन शक्ति का कमजोर होना|

खराब पाचन होने की वजह से शरीर की इम्यूनिटी कमजोर होने लगती है| जिस कारण बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है| गलत लाइफस्टाइल और खाने पीने की बुरी आदतों की वजह से इस परेशानी का सामना करना पड़ता है| इससे बचने के लिए पाचन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय काफी असरदायक होते है, इस लेख में हम जानेंगे पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय और देसी घरेलू नुस्खे,

पाचन क्रिया कमजोर होने के क्या कारण है
ज्यादा फास्ट फूड का सेवन करना|
ज्यादा तनाव लेना|
नींद पूरी ना होना|
बेवक्त भोजन करना|
जल्दी जल्दी खाना सेवन करना|
अधिक समय तक एक ही जगह पर बैठे रहना|
पाचन क्रिया कमजोर होने के मुख्य लक्षण है
पेट में जलन|
अल्सर|
गैस बनना|
भूख ना लगना|
एसिडिटी|
खराब गंध या खट्टी सांस|
जी मचलाने की समस्या होना|

पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय और देसी घरेलू नुस्खे 
पाचन तंत्र मजबूत करने के लिए अजवाइन का पानी पिए|
काली मिर्च, हींग, भूना हुआ जीरा, आँवले का पाउडर, सौंठ और सेंधा नमक मिलाकर छोटी-छोटी गोली बना कर खाएं| इस घरेलू उपाय से भूख बढ़ने लगती है और पाचन शक्ति मजबूत होती है|
इलायची के बीजों को पीस कर इसका चूर्ण बना कर त्यार कर लें और समान मात्रा में मिश्री मिला लें| यह देसी दवा दिन में दो से तीन बार तीन ग्राम की मात्रा में सेवन करें|

अदरक हमारे पेट के पाचनतंत्र के लिए बहुत ही लाभदायक होता है| पाचन क्रिया बढ़ाने के लिए एक छोटा टुकड़ा अदरक का ले और उस पर नींबू का रस डालकर उसे चूसे|
अजवाइन, काला नमक और जीरा बराबर मात्रा में ले कर इसे मिला लें और इस मिश्रण का एक चम्मच पानी के साथ सेवन करे|

पाचन शक्ति बढ़ाने के योग और एक्सरसाइज
खराब पाचन की समस्याओं से राहत पाने के लिए आप योगा और एक्सरसाइज भी कर सकते है| अगर आप आप योगा नहीं करना चाहते तो सुबह शाम की सैर पर जाये| इसके अलावा दौड़, साइकलिंग और तैराकी भी कर सकते है| योग में ऐसे कुछ आसान है जो पाचन क्रिया दुरुस्त करने में मदद करते है|

पश्चिमोत्तासन
धनुरासन
भुंजगासन
नौकासन
हलासन
इन योगासन को करने से पहले आप किसी योग गुरु की मदद से इन्हे करने का सही तरीका और पूरी जानकारी जरूर लें| इसके अलावा आप बाबा रामदेव की योगा की वीडियो देख कर घर पर भी सिख सकते है|

पाचन क्रिया ठीक करने के उपाय
पाचन तंत्र दुरुस्द करने के लिए हरी सब्जियां मेथी, पालक एक अच्छा उपाय है| इसको खाने से कब्ज का इलाज होता है और शरीर को जरूरी पोषण तत्व मिलता है|
खाने में फलों का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करे| फलों में अनार, अंजीर, पपीता, अमरूद और संतरे सेवन करे| इसमें फाइबर ज्यादा मात्रा में पाया जाता है| इसे पेट साफ रहता है और पाचन क्रिया ठीक होती है|
पेट में गैस की समस्या से छुटकारा पाने के लिए मूली का सेवन फायदेमंद होता है| मूली पर नमक लगाकर सेवन करे| मूली का रस पिने और सब्जी खाने से लाभ होता है| इसे रात में सेवन ना करे|
पानी पाचन क्रिया का एक आवश्यक भाग है, पाचन शक्ति बढ़ाने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पिए| पाचन मजबूत करने के लिए खाना खाने से आधा घंटा पहले हल्का गुनगुना पानी सेवन करे|
पेट की अन्य बीमारियों का इलाज करने के लिए पुदीने का इस्तेमाल फायदेमंद होता है| रोज इसका सेवन करने से पेट की अन्य बीमारियों से राहत मिलती है|
रोजाना रात को तांबे के बर्तन में पानी भर पर रखे और अगली सुबह खाली पेट से सेवन करे इससे पाचन शक्ति बढ़ती है|
पाचन क्रिया दुरुस्त करने के लिए सलाद का सेवन ज्यादा से ज्यादा करे| सलाद में नींबू, काला नमक और टमाटर का इस्तेमाल करे|
डिजेस्शन की समस्या से राहत पाने के लिए फाइबर युक्त और विटामिन सी चीजों का सेवन करे|
अंकुरीत की हुई मूंग की दाल, चने और गेहूं का सेवन करने से पाचन क्रिया अच्छी रहती है|
पाचन क्रिया दुरुस्त करने के लिए संतरे का रस सेवन करे|

पाचन क्रिया कैसे बढ़ाए  
ज्यादा देर तक एक ही जगह पर ना बैठे और अगर आप अपने काम की वजह से एक ही जगह पर बैठते है तो 2 घंटे के बाद 5 या 10 मिनट का ब्रेक लें और थोड़ी देर टहले|

7 से 8 घंटे की नींद लें और रात में देर से ना सोए|
ज्यादा मसालेदार और तला हुआ खाना खाने से बचे|
शराब, तंबाकू और धूम्रपान से परहेज करें|
सुबह, दोपहर और रात का खाना सही टाइम पर सेवन करे|
ध्यान रहे भोजन चबा चबा कर सेवन करे|

दोस्तों खराब पाचन शक्ति ठीक करने के 5 आसान घरेलू उपाय और देसी नुस्खे का यह लेख आप को कैसा लगा हमे कमेंट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें|

Split Ends Hair दोमुहे बालो के लिए घरेलु नुस्खे

Split Ends Hair दोमुहे बालो के लिए घरेलु नुस्खे………….

 

बहुत से लोग है जो दोमुहे बालों की समस्या से परेशान रहते है. यदि बाल दोमुहे हो जाते है तो उनकी ग्रोथ भी रूक जाती है आज हम आपको दोमुहे बालों की समस्या को दूर करे और इस समस्या से बचने के लिए कुछ आसान घरेलु उपाय बताने जा रहे है जो आपको लिए काफी मददगार हो सकते है.

नारियल तेल  
दोमुहे बालों के लिए नारियल तेल बहुत ही फायदेमंद है अगर आपके बाल रूखे और दो मुहे है तो नारियल तेल को गुनगुना कर बालों की जड़ो में उँगलियों के आगे के पोरो की सहायता से मालिश करें कोशिश करे की तेल को अधिक समय तक बालों में रखे. इससे बालों को ज़रूरी पोषण के साथ नमी मिलेगी और बाल दो मुहे नहीं होंगे।

एलोवेरा जेल  
दो मुहे बालों के लिए एलोवेरा जेल और नारियल को तेल को अच्छी तरह से मिक्स कर ले और बालों की जड़ो से लेकर पूरे बालों में लगाए एक से डेढ़ घंटे के बाद बालों को शैम्पू कर ले इससे बालों को नेचुरल नमी मिलेगी और दोमुहे बालों की समस्या दूर होने लगेगी.

शहद  
दो मुहे बालों के लिए एक कप गुनगुने पानी में तीन से चार छोटी चम्मच शहद और दो चम्मच एलोवेरा जेल मिलाकर मिक्स करे अब इस मिक्सचर को बालों की जड़ो से लेकर उप्पर तक लगाए 1 घंटे बाद बालों को धो ले। ये घरेलु नुस्खा बालों को टूटने से बचाता है और दोमुहे बालो से छुटकारा दिलाता है .

दूध की मलाई  
दो मुहे बालों के लिए लगभग आधा कप दूध की मलाई में 2 चम्मच एलोवेरा जेल डालकर मिक्स कर ले अब इस मिश्रण में दो चम्मच दूध डालकर बालो की जड़ो से लेकर पूरे बालों में लगाए आधे घंटे बाद शैम्पू कर ले ये उपाय बालों को रूखे, बेजान व दो मुहे होने से बचाता है.

मुल्तानी मिटटी  
दो मुहे बालों से निजाद पाने के लिए मुल्तानी मिटटी में थोड़ा दही मिलाकर पतला पेस्ट तैयार कर ले अब इस मिश्रण को जड़ो से लेकर पुरे बालों पर लगाए सूखने के बाद बालो को धो ले।

मेथी दाना  
दो मुहे बालों के लिए मेथी दाने को रातभर पानी में भीगो दे सुबह इसे पीसकर पेस्ट बनाकर इसमें दही मिक्स कर ले अब इस मिश्रण को बालों पर लगाए और सूखने पर धो ले ये घरेलु उपाय दोमुहे बालो की समस्या को दूर करता है.

केले का मास्क  
दो मुहे बालों से छुटकारा पाने के लिए केले को मैश कर लेप बना ले इसमें एलोवेरा जेल, शहद और नारियल का तेल मिलाकर मिक्स कर ले अब इस मिश्रण को बालों पर लगाए लगभग 1 घंटे बाद बालों को धो ले केले का ये मास्क बालों को चमक प्रादाब कर दो मुहे बालों की समस्या से निजाद दिलाता है.

पपीते का मास्क  
दो मुहे बालों से छुटकारा पाने के लिए पपीते का मास्क बहुत ही कारगर नुस्खा है बालों की लम्बाई के अनुसार पपीता को पीसकर उसमे दही और शहद डालकर मिक्स कर ले और इस मिश्रण को बालो में लगाए सूखने के बाद बालो को वाश कर ले.

ब्लो ड्राई से बचे  
गीले बालों को ब्लो ड्रायर से सुखाने के बजाय हमेशा प्राकृतिक रुप से सूखने दें। क्योकि ड्रायर से निकलने वाली गर्म हवा बालों को नुक्सान पहुंचाती है जिससे बाल रूखे, बेजान और दोमुहे होने लगते है.

मेहंदी  
दोमुहे बालों के लिए घरेलु कंडीशनर का इस्तेमाल करे. इसके लिए लोहे के कडाही ले और उसमे मेंहदी, रीठा, आंवला, शिकाकाई रात भर के लिए भिगो दे. अगले दिन इस मिश्रण में कॉफी पाउडर, अंडा, दही, और नींबू का रस मिला ले अब इस मिश्रण को बालों में अच्छी तरह से लगाकर सूखने के बाद धो ले. ये उपाय दोमुहे बालों के लिए कारगर उपाय है.

झुर्रियां हटाने के लिए घरेलू नुस्खे How to Remove Wrinkles on Face

झुर्रियां हटाने के लिए घरेलू नुस्खे How to Remove Wrinkles on Face……………

 

चेहरे पर होने वाली झुर्रियों को बुढ़ापे की निशानी समझा जाता है आजकल झुर्रियां होना आम बात हो गयी है क्योकि बेहद कम उम्र में ही चेहरे की स्किन ढीली पड़ने लगती है जिस कारण चेहरे में झुर्रियां नजर आने लगती है. आज हम आपको कुछ ऐसे असरदार घरेलू उपाय बताने जा रहे है जिनकी मदद से आप बहुत जल्द और आसानी से झुर्रियों से छुटकारा पा सकेंगे।

शहद और ग्लिसरीन  
शहद और ग्लिसरीन चेहरे की झुर्रियों को दूर करने में बहुत ही फायदेमंद हैं। एक चमच्च शहद ले और उसमे में 2 बूंदे ग्लिसरीन की मिलाये अब इस मिश्रण को रात में सोने से पहले चेहरे पर लगायें। कुछ दिनों तक लगातार इस घरेलु उपाय से चेहरे से झुर्रियां गायब होने लगती है.

उड़द की दाल  
थोड़ी सी उड़द की दाल को रातभर पानी में भिगो दे सुबह इसे पीसकर पेस्ट तैयार कर ले अब दाल के इस पेस्ट को चेहरे पर लगा ले 20 मिनट इसे चेहरे पर रखने के बाद चेहरा धो दें। ऐसा करने से चेहरे में पड़ी झुर्रिया दूर होने लगेगी साथ ही स्किन ग्लो भी करेगी.

टमाटर  
चेहरे से झुर्रियां को हटाने के लिए टमाटर का रस रुई की मदद से चेहरे पर लगायें और कुछ देर इसे सूखने के लिए छोड़ दे जब ये सूख जाय तो हाथो को गीला कर हल्के- हल्के चेहरे की मसाज करे और कुछ देर के बाद चेहरा धो ले टमाटर में एंटी एजिंग गुण होते है जो चेहरे से झुर्रियां हटाने में कारगर है.

अदरक  
अदरक का रस और शहद को बराबर मात्रा में मिलाकर पेस्ट तैयार कर ले अब इन पेस्ट को फेस पर लगाए। कुछ देर बाद चेहरे को धो ले ऐसा करने से ना सिर्फ स्किन से झुर्रियां हटेंगी बल्कि स्किन ग्लो भी करेगी अदरख चेहरे से झुर्रियां हटाने का काफी असरदार घरलू नुस्खा है.

केला  
चेहरे की झुर्रियों को हटाने के लिए केला बेहद लाभकारी माना जाता है 1 पके केले में शहद मिलाकर पेस्ट बनाकर इसे कम से कम 20 मिनट के लिए चेहरे पर लगाए. लगभग 10 मिनट बाद चेहरा धो ले केले का ये पेस्ट चेहरे से झुर्रियों की समस्या को दूर करने में कारगर है.

एलोवेरा जेल  
एलोवेरा जेल में अंडे का सफ़ेद भाग अच्छी तरह मिलाकर मिश्रण तैयार करे और इसे चेहरे पर लगाएं। इस मिश्रण को 10 मिनट तक चेहरे पर लगे रहने दे और फिर गुनगुने पानी से चेहरा धो लें। हफ्ते में दो बार इसका इस्तेमाल झुर्रियों की समस्या से निजाद दिलाने में कारगर है.

गाजर  
गाजर में विटामिन A पाया जाता है जो की चेहरे की झुर्रियां हटाने में बेहद असरदार है ये त्वचा में कोलोजन बढाकर रिंकल्स को दूर करता है। गाजर उबालकर इसका पेस्ट तैयार करे अब इसमें नींबू का रस और शहद मिलाकर चेहरे पर लगाए इसके अलावा गाजर के सेवन से भी स्वस्थ स्किन पायी जा सकती है.

पेट्रोलियम जेली  
माथे और चेहरे की झुर्रियों से निजाद पाने के लिए पेट्रोलियम जेली बेहद असरदार मानी जाती है चेहरे को हल्का गीला कर चेहरे में पेट्रोलियम जेली लगाएं और हल्के हाथो से कुछ देर मालिश करें रोजाना रात में सोने से पहले कुछ समय तक इस उपाय से चेहरे की झुर्रियां गायब होने लगेंगी.

बादाम का तेल  
बादाम त्वचा को कोमल बनाने के साथ ही जवां भी रखता है बादाम के तेल की कुछ बूंदें चेहरे और माथे पर लगाकर 5 से 10 मिनट तक मसाज करें रोजाना रात को सोने से पहले इस उपाय को कुछ समय तक लगातार अपनाने पर झुर्रियों से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है.

मुल्तानी मिट्टी  
मुल्तानी मिट्टी को कुछ देरके लिए भिगा दें. जब ये भीग जाय तो उसमें खीरे और टमाटर के रस के साथ थोड़ा सा शहद मिला ले अब इस मिश्रण को चेहरे पर लगाकर लेट जाएं. सूखने के बाद चेहरा धो ले चेहरे की झुर्रियों पर मुल्तानी मिट्टी बेहद असरदार है यह त्वचा में कसाव लाने के साथ ही महीन रेखाओं को दूर करती है|

खुजली दूर करने के आसान घरेलू उपाय – Home Remedies for Itching (Khujli)

खुजली दूर करने के आसान घरेलू उपाय – Home Remedies for Itching (Khujli)……………

 

कई बार अचानक होने वाली खुजली को रोक पाना मुश्किल हो जाता है। अधिकांश लोग त्वचा को खुरच-खुरच कर खून तक निकाल देते हैं। त्वचा को खुरचने से भले ही थोड़ी देर के लिए सुकून मिल जाए, लेकिन इसके बाद होने वाली पीढ़ा असहनीय होती है। गर्मियों के दौरान यह आम है, क्योंकि पसीने का निकलना और देर तक त्वचा पर बने रहने से बैक्टीरिया पनपने लगते हैं, जिससे खुजली का एहसास होता है। गले, कमर, बगल और जाघों के बीच में खुजली ज्यादा होती है, क्योंकि यहां पसीने का जमाव ज्यादा होता है।

कभी-कभार होने वाली खुजली कष्टदायक नहीं होती है, लेकिन समस्या तब ज्यादा गंभीर हो जाती है, जब यह अधिक दिनों तक रहे। इस लेख में जानिए खुजली से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी और इससे जल्द निजात पाने के सटीक घरेलू उपाय।

खुजली के कारण – Causes of Itching  
गर्मी में पसीना ही एकमात्र खुजली का कारण नहीं है, नीचे जानिए खुजली की विभिन्न वजहों के बारे में –

शुष्क त्वचा या जिरोसिस
त्वचा में जलन या चकत्ते
लिवर से जुड़ा कोई रोग या किडनी फेल
मल्टीपल स्क्लेरोसिस, डायबिटीज
सौंदर्य प्रसाधनों से होने वाली एलर्जी
ओपिऑयड्स, एंटी मलेरिया जैसे ड्रग्स का रिएक्शन (1)
गर्भावस्था
बढ़ती उम्र
पर्यावरणीय कारक

खुजली के कारण जानने के बाद खुजली के लक्षणों की बात करते हैं।

खुजली के लक्षण – Symptoms of Itching  
त्वचा का लाल होना और धब्बे
छाले
शुष्क और छीलने वाली त्वचा
पपड़ीदार त्वचा

खुजली के घरेलू उपाय – Home Remedies for Itching  
खुजली की समस्या लंबे समय तक त्वचा को प्रभावित कर सकती है। डॉक्टरी उपचार के जरिए इसे ठीक किया जा सकता है, लेकिन अगर आप इससे निजात पाने के लिए प्राकृतिक और सुरक्षित नुस्खों की खोज में हैं, तो नीचे बताए जा रहे घरेलू उपायों को अपना सकते हैं –

1. बेकिंग सोडा बाथ

सामग्री

आधा कप बेकिंग सोडा
हल्का गर्म पानी

कैसे करें इस्तेमाल?

हल्के गर्म पानी से बाथटब भर लें।
पानी में आधा कप बेकिंग सोडा मिला लें।
15 से 20 मिनट तक इस पानी में शरीर को डुबोए रखें।

कितनी बार करें?

जब तक खुजली कम नहीं होती है, रोजाना इस पानी से स्नान करें।

कैसे है लाभदायक?

खुजली का उपाय करने के लिए आप बेकिंग सोडा प्रयोग में ला सकते हैं। गर्म पानी में बेकिंग सोडा (सोडियम बाइकार्बोनेट) डालकर स्नान करने से खुजली से त्वचा को आराम मिलता है। इसमें मौजूद एंटीफंगल और एंटी बैक्टीरियल गुण खाज को कम कर त्वचा को आराम पहुंचाने का काम करते हैं (2), (3)।

2. तुलसी
Basil for Itching 

सामग्री

छह-आठ तुलसी की पत्तियां
कैसे करें इस्तेमाल?

तुलसी के पत्तों को पीसकर पेस्ट बना लें और प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
आप अपनी त्वचा पर इन पत्तियों को सीधा रगड़ भी सकते हैं।
कितनी बार करें?

खुजली से तुरंत राहत के लिए आप ऐसा रोज कर सकते हैं।
कैसे है लाभदायक?

तुलसी एक गुणकारी औषधि है, जिसका इस्तेमाल आप खुजली से निजात पाने के लिए कर सकते हैं। तुलसी एंटीमाइक्रोबियल और एंटीइंफ्लेमेटरी गुणों से समृद्ध होती है, जो खुजली से संक्रमित त्वचा को आराम देने का काम करती है (4, 5)।

3. नींबू
सामग्री

एक-दो नींबू
कॉटन पैड
कैसे करें इस्तेमाल?

एक या दो नींबू का रस निकाल लें।
अब कॉटन पैड को नींबू के रस में डुबोएं और खुजली वाले स्थान पर लगाएं।
अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है, तो आप नींबू के रस में थोड़ा पानी भी मिला सकते हैं।
कितनी बार करें?

जल्द राहत पाने के लिए आप रोजाना दो बार इस प्रक्रिया को दोहराएं।

कैसे है लाभदायक?

खुजली का उपाय करने के लिए आप नींबू प्रयोग में ला सकते हैं। नींबू सिट्रिक और एसिटिक एसिड से भरपूर होता है। साथ ही यह एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी बैक्टीरियल व एंटी-इरिटेंट गुणों से समृद्ध होता है, जिस कारण यह खुजली और सूजन वाली त्वचा के इलाज में मदद करता है (6, 7)।

4. एलोवेरा जेल
सामग्री

एलोवेरा जेल (आवश्यकतानुसार)
कैसे करें इस्तेमाल?

एलोवेरा पत्ती के अंदर मौजूद जेल को बाहर निकालें और किसी साफ कंटेनर में रख लें।
अब इस जेल को खुजली की जगह पर लगाएं और छोड़ दें।
बाकी जेल को फ्रिज में स्टोर करके रख दें।
कितनी बार करें?

रोजाना दिन में दो-तीन बार एलोवेरा जेल का इस्तेमाल करें।

कैसे है लाभदायक?

आप ऐलोवेरा जेल को खुजली की दवा के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐलोवेरा जेल खुजली से संक्रमित त्वचा को ठंडक और आराम देने का काम करता है। यह एंटी एलर्जिक व एंटी इंफ्लेमेटरी गुण से समृद्ध होता है, जिससे खुजली कम होती है। यह एक सुरक्षित प्राकृतिक उपाय है, जिसका इस्तेमाल आप खुजली से निजात पाने के लिए कर सकते हैं (8)।

5. सेब का सिरका
Apple Vinegar for Itching  

सामग्री

एक कप सेब का सिरका
नहाने योग्य गर्म पानी
कैसे करें इस्तेमाल?

नहाने के पानी में एक कप सेब का सिरका और लगभग 15 मिनट तक इसमें अपने शरीर को डुबोकर रखें।
बाद में साफ पानी से नहा लें।
कितनी बार करें?

हर दूसरे दिन इस प्रक्रिया को दोहराएं।

कैसे है लाभदायक?

सेब का सिरका एक सटीक खुजली का घरेलू उपाय है, जो खुजली और चकत्तों से राहत देने का काम करता है। सिरका एंटी माइक्रोबियल गुणों से समृद्ध होता है, जो खुजली से संक्रमित त्वचा का इलाज करता है (9)। खुजली का इलाज करने के लिए आप सेब के सिरके का बताए गए तरीके से इस्तेमाल कर सकते हैं।

6. नीम
सामग्री

10-15 नीम के पत्ते
पानी (आवश्यकतानुसार)
कैसे करें इस्तेमाल?

नीम की पत्तियों को पानी के साथ पीसकर पेस्ट बना लें।
इस पेस्ट को खुजली वाली जगह पर लगाएं और कुछ घंटों के लिए छोड़ दें।
आप पानी में नीम की पत्तियों को उबालकर नहा भी सकते हैं।
कितनी बार करें?

पेस्ट वाली विधि रोजाना दो बार करें और नहाने वाली विधि दिन में एक बार करें।

कैसे है लाभदायक?

नीम की पत्तियां एंटीवायरल और एंटी बैक्टीरियल गुणों से समृद्ध होती हैं, जिससे खुजली वाली त्वचा को आराम मिलता है (10)। नीम का पेस्ट खुजली के कारण बनने वाले घावों को सूखाने का काम करता है। यह एक सुरक्षित प्राकृतिक उपाय है, जिसका इस्तेमाल आप कर सकते हैं।

7. ओटमील बाथ
सामग्री

दो कप ओट्स
चारा कप पानी
एक साफ सूती कपड़ा
गर्म पानी
कैसे करें इस्तेमाल?

ओटमील को ग्राइंड कर चार कप पानी में कुछ मिनट के लिए भिगो दें।
अब ओटमील को एक सूती कपड़े में रखें और इसे कस लें।
बाथटब में नहाने योग्य पानी भर लें और कपड़े में बंधे हुए ओटमील को पांच-दस मिनट के लिए पानी में रख दें।
अब लगभग 15 से 20 मिनट के लिए इस पानी में स्नान करें।
कितनी बार करें?

समस्या के दिनों में रोजाना इस प्रक्रिया को दोहराएं।

कैसे है लाभदायक?

खुजली का इलाज करने के लिए आप ओटमील बाथ कर सकते हैं। ओटमील बाथ एक कारगर मॉइस्चराइजिंग और एंटी इंफ्लेमेटरी एजेंट की तरह काम करता है, जो खुजली से संक्रमित त्वचा को आराम देने का काम करता है (11)।

8. नारियल का तेल
Coconut Oil for Itching

सामग्री

नारियल का तेल (आवश्यकतानुसार)
कैसे करें इस्तेमाल?

गुनगुने पानी से स्नान कर लें और शरीर को अच्छी तरह सूखा लें।
अब आवश्यकतानुसार नारियल का तेल लें और प्रभावित जगह पर लगाएं।
अगर आपको हर जगह खुजली महसूस होती है, तो आप पूरे शरीर पर तेल से मालिश कर सकते हैं।
कितनी बार करें?

समस्या के दिनों में रोजाना करें।

कैसे है लाभदायक?

नारियल के तेल में लोरिक एसिड नाम का खास तत्व पाया जाता है, जो एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटीमाइक्रोबियल गुणों से समृद्ध होता है (12)। यह एक सुरक्षित प्राकृतिक उपाय है, जिसका इस्तेमाल खुजली से राहत पाने के लिए किया जा सकता है।

9. कोल्ड कंप्रेस
सामग्री

एक आइस पैक
कैसे करें इस्तेमाल?

आइस पैक लें और प्रभावित क्षेत्र पर कुछ मिनट के लिए लगाएं।
आपको जहां-जहां खुजली हो रही है, वहां-वहां आइस पैक लगाएं।
कितनी बार करें?

जब भी आपको खुजली का एहसास हो यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे है लाभदायक?

खुजली को कम करने के लिए आप आइस पैक का इस्तेमाल कर सकते हैं। आइस पैक का ठंडा एहसास खुजली वाली त्वचा को आराम देने का काम करता है (13)।

10. पुदीना
सामग्री

मुट्ठी भर पुदीने की पत्तियां
दो कप पानी
कॉटन बॉल
कैसे करें इस्तेमाल?

दो कप पानी में मुट्ठी भर पुदीने की पत्तियां डालें और उबाल लें।
उबालने के बाद पानी ठंडा होने दें।
ठंडा हो जाने के बाद पुदीने का पानी छान लें।
अब इसमें कॉटन बॉल को भिगोकर खुजली से प्रभावित त्वचा पर लगाएं।
कितनी बार करें?

समस्या के दौरान यह प्रक्रिया दो-तीन बार दोहराएं।

कैसे है लाभदायक?

पुदीने की पत्तियों में मौजूद प्रमुख तत्व मेन्थॉल होता। मेन्थॉल एंटी इंफ्लेमेटरी और एनेस्थीसिया गुणों से समृद्ध होता है, जो खुजली और सूजन से आपको राहत दिला सकता है (14, 15)।

11. मेथी के बीज
सामग्री

एक-दो कप मेथी के बीज
कैसे करें इस्तेमाल?

मेथी के बीजों को एक घंटे के लिए पानी में भिगो दें।
भीगे हुए मेथी के दानों को थोड़े से पानी के साथ पीसकर गाढ़ा पेस्ट बनाएं।
अब पेस्ट को खुजली से प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।
पेस्ट सूखने पर त्वचा को पानी से धो लें।
कितनी बार करें?

सप्ताह में कम से कम तीन बार यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे है लाभदायक?

मेथी के बीज में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो खुजली और सूजन को काफी हद तक कम कर सकते हैं (16)। मेथी के बीज अपने एंटीमाइक्रोबियल गुणों के चलते रैशेज को ठीक करने का काम करते हैं। खुजली से राहत पाने के लिए आप मेथी के बीजों का इस प्रकार प्रयोग कर सकते हैं (17)।

12. शहद
Honey for Itching

सामग्री

शहद (आवश्यकतानुसार)
कैसे करें इस्तेमाल?

खुजली व चकत्तों वाले क्षेत्र पर शहद लगाएं।
कम से कम 20 मिनट तक शहद को लगा रहने दें।
20 मिनट बाद साफ पानी से त्वचा पर लगे शहद को धीरे से पोंछ लें।
कितनी बार करें?

दिन में यह प्रक्रिया दो बार दोहराएं।
कैसे है लाभदायक?

शहद एक सटीक खुजली का घरेलू उपाय है, जो एंटी बैक्टीरियल गुणों से समृद्ध होता है (18)। इसका इस्तेमाल आप खुजली से संक्रमित त्वचा को आराम पहुंचाने के लिए कर सकते हैं। शहद न सिर्फ चकत्तों को कम करेगा, बल्कि निशान मिटाने में मदद करेगा।

13. लहसुन
सामग्री

लहसुन की दो-तीन कलियां
आधा कप जैतून का तेल
कैसे करें इस्तेमाल?

लहसुन की कलियों को छोटा-छोटा काट लें और जैतून के तेल के साथ गर्म कर लें।
गर्म करने के बाद तेल को रातभर के लिए इसी तरह छोड़ दें।
अगली सुबह, इस तेल को सभी प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
20 से 30 मिनट तक तेल त्वचा पर लगा रहने दें और बाद में साफ पानी से धो लें।
कितनी बार करें?

समस्या के दौरान रोजाना एक बार यह प्रक्रिया दोहराएं।

कैसे है लाभदायक?

खुजली का उपाय करने के लिए आप लहसुन प्रयोग में ला सकते हैं। लहसुन को अपने शक्तिशाली एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटीफंगल और एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए जाना जाता है, जिसका इस्तेमाल आप खुजली से निजात पाने के लिए कर सकते हैं (19)। यह एक सुरक्षित प्राकृतिक उपाय है।

14. एसेंशियल ऑयल
क) पुदीने का तेल
सामग्री

पुदीने के तेल की दो-तीन बूंद
कैरियर तेल (नारियल या जैतून का तेल) का एक बड़ा चम्मच
कैसे करें इस्तेमाल?

पुदीने के तेल को कैरियर तेल के साथ मिलाएं।
अब इसे प्रभावित जगह पर लगाएं।
कितनी बार करें?

रोजाना कम से कम एक बार जरूर करें।

कैसे है लाभदायक?

पुदीने के तेल में मेन्थॉल होता है, जो एंटीइंफ्लेमेटरी और एनेस्थीसिया गुणों के लिए जाना जाता है। खुजली से राहत पाने के लिए आप इस खास तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं (14, 15)।

ख) टी ट्री ऑयल
Tea Tree Oil for Itching

सामग्री

टी ट्री तेल की दो-तीन बूंद
कैरियर तेल (नारियल या जैतून का तेल) का एक बड़ा चम्मच
कैसे करें इस्तेमाल?

टी ट्री ऑयल को कैरियर तेल के साथ मिलाएं।
अब इस मिश्रण को सीधे खुजली वाली त्वचा पर लगाएं और इसे सूखने दें।
कितनी बार करें?

रोजाना कम से कम एक बार जरूर करें।

कैसे है लाभदायक?

खुजली की दवा के रूप में आप टी ट्री ऑयल इस्तेमाल में ला सकते हैं। टी ट्री ऑयल एक औषधीय तेल है, जो एंटीसेप्टिक, एंटीमाइक्रोबियल और एंटी इंफ्लेमेटरी गुणों से समृद्ध होता है। खुजली से संक्रमित त्वचा का इलाज करने के लिए आप इस खास तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं (20), (21)।

15. विटामिन्स
ऊपर बताए गए उपायों के अलावा आप खुजली से बचे रहने के लिए विटामिन्स से भरपूर खाद्य पदार्थों का भी सेवन कर सकते हैं। विटामिन-ए, सी और ई आपकी त्वचा को संक्रमण से होने वाली खुजली से बचाए रखने में मदद करते हैं। विटामिन-ए त्वचा कोशिकाओं के उत्पादन और वृद्धि को बढ़ावा देकर त्वचा को स्वस्थ और पोषित रखता है (22)।

वहीं, विटामिन-सी कोलेजन के उत्पादन में सहयोग करता है, जो त्वचा के लिए जरूरी है (23)। विटामिन-सी और ई एंटीऑक्सीडेंट गुणों से समृद्ध होते हैं, जो त्वचा को रेडिकल्स फ्री रखते हैं (24)। अंडे, पनीर, दूध, खट्टे फल, हरी सब्जियां और नट्स विटामिन्स से भरपूर होते हैं, जिनका आप सेवन कर सकते हैं।

खुजली से बचाव के उपाय – Prevention Tips For Itching  
ढीले-ढाले या सूती कपड़े पहनें।
अपने आसपास नमी को बनाए रखने के लिए ह्यूमिडिफायर का उपयोग करें।
अपने नाखूनों को समय पर काटें।
रोजाना शावर लें।
तनाव के स्तर को नियंत्रण में रखें।
कैफीन और अल्कोहल के सेवन से बचें।
रोजाना पानी की पर्याप्त मात्रा लें, ताकि आप अच्छी तरह हाइड्रेटेड रहें।
अपनी त्वचा को मॉइस्चराइज रखें। इसके लिए आप अच्छा मॉइस्चराइजर प्रयोग कर सकते हैं।
जिन खाद्य पदार्थाों से आपको एलर्जी है उनसे दूर रहें।
कपड़े धोने के बाद अच्छी तरह धूप में सुखाएं, कपड़ों का गीलापन खुलजी को आमंत्रण देता है।

कब लेनी चाहिए डॉक्टर की सलाह – When to Visit A Doctor  
अगर खुजली कई हफ्तों तक रहे।
घरेलू उपाय के बावजूद कोई सुधार न हो।
अचानक खुजली का शुरू हो जाना।
पूरे शरीर को प्रभावित करना।
खुजली के साथ थकान, वजन घटना या बुखार आना।
खुजली के साथ किसी अन्य त्वचा संक्रमण का सामने आना।

खुजली एक आम समस्या है, जो किसी भी वक्त आपकी त्वचा को निशाना बना सकती है। शरीर के प्रति सही देखभाल और प्रतिदिन शरीर की नियमित सफाई से आप इससे बचे रहेंगे। खुजली होने पर आप लेख में बताए गए प्राकृतिक उपायों को अपना सकते हैं। आशा है, यह लेख आपको पसंद आया होगा ।

पेट कमर की चर्बी घटाएं Home Remedies for Loss Belly Fat

पेट कमर की चर्बी घटाएं घरेलू नुस्खे Home Remedies for Loss Belly Fat……………

 

आजकल की इस भागदौड़ भरी लाइफ में पेट और कमर की जमी हुई चर्बी कई लोगो की समस्या का कारण है. यह न सिर्फ हमारे लुक को बिगाड़ती है बल्किकई परेशानियों का कारण भी बन सकती है आज हम आपको पेट और कमर की चर्बी का मोटापा कम करने के कुछ आसान घरेलु उपाय के बारे में बताएँगे.

तरबूज WATERMELON FOR REDUCE BELLY FAT  
पेट की चर्बी कम करने के लिए तरबूज बेहद असरदार घरेलु नुस्खा है इसमें 91 प्रतिशत पानी होता है रोजाना दो गिलास तरबूज का जूस पीने से 1 हफ्ते में पेट के आस-पास की चर्बी आसानी से घटाई जा सकती है.

शहद और नींबू HONEY AND LEMON FOR REDUCE BELLY FAT  
रोजाना सुबह खली पेट एक गिलास गुनगुने पानी में 2 चम्मच शहद और नींबू का रस मिलाकर पीने से पेट और कमर की बढ़ी हुई चर्बी के साथ पूरे शरीर के मोटापे को कम किया जा सकता है.

अजवाइन OREGANO FOR REDUCE BELLY FAT  
पेट के आसपास की बढ़ी हुई चर्बी को घटाने के लिए अजवायन बहुत ही फायदेमंद है. अपनी डाइट में अजवाइन की पत्त‍ियों को शामिल करे ये पेट की चर्बी कम करती है. इसके अलावा खाने के पहले अजवाइन का पानी पीने से पाचन तंत्र सही रहता है और मोटापा कम होता है.

भरपूर नींद ले TAKE ENOUGH SLEEP FOR GET RID OF BELLY FAT  
शरीर की चर्बी को कम करने के लिए पूरी नींद लेना बहुत जरूरी है कम से कम सात-आठ घंटे की नींद लेनी ही चाहिए। कम या जरूरत से ज़्यादा सोना वज़न बढ़ने के अहम कारण माने गए हैं। भरपूर नींद लेने से पाचन तंत्र अच्छे से काम करता है और भोजन को ठीक से पचाने में मदद करता है.

कढ़ी पत्ता CARRY LEAVES FOR LOSS BELLY FAT  
करी पत्ता पेट और कमर की चर्बी को कम करने में असदार है. अगर आप रोजाना सुबह उठकर खाली पेट 4 से 5 करी पत्ते चबाते है। तो कुछ समय बाद ही आपको पेट और कमर की बड़ी हुई चर्बी से निजात मिल सकती है.

लहसुन GARLIC FOR REDUCE BELLY FAT  
रोजाना सुबह लहसुन की दो कलियां 1 गिलास गुनगुने पानी में नींबू मिले पानी के साथ चबाकर खाने से पेट की बड़ी हुई चर्बी कम होने लगती है. इस मिश्रण को खाली पेट इस्तेमाल करने पर पेट और कमर की बढ़ी हुई चर्बी से निजाद दिलाने में कारगर है.

सेब APPLE FOR REDUCE BELLY FAT AT HOME
सेब में डाइट्री फाइबर पाया जाता है इसमें मौजूद फाइबर, फीटोस्ट्रॉल, फ्लेवोनॉयड्स और बीटा-कैरोटीन जैसे तत्त्व बैली फैट को आसानी से कम करते है. रोजाना सेब का सेवन पेट और कमर की चर्बी को कम करने के साथ ही स्किन को भी चमकदार बनाता है.

एलोवेरा ALOE VERA FOR LOSS BELLY FAT  
एलोवेरा शरीर में फैट्स को स्टोर नहीं होने देता। अगर आप एलोवेरा जूस को एक चम्मच जीरा पाउडर गुनगुने पानी में मिलाकर खाली पेट सेवन करते है तो पेट की चर्बी बड़ी आसानी से और जल्दी कम होने लगती है.

बादाम ALMOND FOR REDUCE BELLY FAT  
बादाम वजन कम करने और दिमाग को तेज़ करने में मददगार है रोजाना रात के समय 4 से 5 बादाम भिगोकर सुबह इन्हें छीलकर खाने से इसमें मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड पेट की चर्बी को कम कर देते है.

पुदीना और धनिया MINT AND CORIANDER LEAVES FOR REDUCE BELLY FAT  
पुदीने और धनिये के पत्तो को बराबर मात्रा में मिलाकर चटनी तैयार कर ले और रोजाना कुछ समय तक लगातार इस चटनी का सेवन करे इसे आप दिनभर में एक से अधिक बार भी इस्तेमाल कर सकते है आयुर्वेद में इस घरेलु तरीके को पेट की चर्बी को कम करने का असरदार तरीका माना गया है.

आंखों की रोशनी बढाने (चश्मा हटाने) के लिए सरल योगा Eye Yoga to Improve Your Eyesight

आंखों की रोशनी बढाने (चश्मा हटाने) के लिए सरल योगा Eye Yoga to Improve Your Eyesight………….

 

आँखे हमारे शरीर का एक अहम हिस्सा हैं. आँखों के बिना हम किसी भी कार्य को नही कर सकते. आँखों के माध्यम से हम इस दुनिया को देख सकते हैं अलग-अलग प्रकार के रंगों को पहचान सकते हैं. इसलिए आँखों का खास ख्याल रखना बहुत ही जरुरी होता है.

आजकल की भागदौड़ भरी जीवन शैली के चलते हम अपने शरीर का ख्याल नही रख पाते. जिससे हमारा शरीर में अनेक समस्याएं हो सकती है. आजकल लोग अधिक देर तक कंप्यूटर आदि में काम करते हैं या घण्टो टीवी के सामने बैठे रहते हैं जिससे लोगो की आँखों में बुरा प्रभाव पड़ता है और आँखों की रौशनी कम होने लगती हैं. जिससे अनेक लोगो की आँखों में कम उम्र में ही चश्मा लग जाता हैं. आँखों की अनेक परेशानियों को दूर करने और आँखों की रौशनी बढ़ाने के लिए आँखों को व्यायाम की जरूरत पड़ती है. आँखों के लिए अनेक प्रकार के व्यायाम होते हैं जिनकी मदद से हम अपनी आँखों की रौशनी को तो बढ़ा ही सकते हैं साथ ही अपने आँखों को अनेक रोगों से भी दूर रख सकते हैं. यदि आप भी चाहते हैं की आपके आँखों स्वस्थ तथा खूबसूरत बनी रहे तो नियमित रूप से योगा और व्यायाम करें.

आँखों की रौशनी बढाने के लिए आसान योगा EASY YOGA INCREASE EYESIGHT
शवासन बढाए आँखों की रौशनी (Shavasana increase eyesight) – शवासन हमारी आँखों की रोशनी बढ़ाने में बहुत ही सहायक होता है. इस आसन को करने से ना केवल हमारी आँखों की रौशनी बढ़ती है बल्कि हमारे आँखे भी पूर्ण रूप से स्वस्थ रहती हैं.

शवासन करने की विधि The method of Shavasana

इस आसान को करने के लिए सबसे पहले मन को शांत करें.
अब पीठ के बल किसी दरी आदि में लेट जाए.
अपने पैरो को ढीला छोडकर हाथों को शरीर से सटाकर बगल में रख लें.
अब अपने शरीर को पूरी तरह से फर्श पर स्थिर होने दें. इस आसान को करने से आँखों को आराम मिलता है और आँखों की रौशनी बढ़ती है.
सर्वांगासन से आँखों की रौशनी बढाए Srwangasn increase the eyesight – सर्वांगासन हमारी आँखों के लिए बहुत ही लाभदायक आसान है इस आसान को करने से हम अपनी आँखों को स्वस्थ रख सकते हैं. इस आसान को कोई भी व्यक्ति आसानी से कर सकता है. इस आसान के माध्यम से आँखों में होने वाले अनेक रोगों को आसानी से दूर किया जा सकता है.

सर्वांगासन करने की विधि The method of Srwangasn

इस आसान को करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल सीधा लेट जाएँ.
आपके पैर मिले हुए, हाथों को दोनों ओर बगल में सटाकर हथेलियाँ जमीन की ओर करके रखें.
श्वास अन्दर भरते हुए आवश्यकतानुसार हाथों की सहायता से पैरों को धीरे-धीरे 30 डिग्री, फिर 60 डिग्री और अन्त में 90 डिग्री तक उठाएँ.
90 डिग्री तक पैरों को न उठा पाएँ तो 120 डिग्री पर पैर ले जाकर व हाथों को उठाकर कमर के पीछे लगाएँ।
वापस आते समय पैरों को सीधा रखते हुए पीछे की ओर थोड़ा झुकाएँ.
दोनों हाथों को कमर से हटाकर भूमि पर सीधा कर दें.
अब हथेलियों से भूमि को दबाते हुए जिस क्रम से उठे थे उसी क्रम से धीरे-धीरे पहले पीठ और फिर पैरों को भूमि पर सीधा करें.
त्राटक आसन से आँखों की रौशनी बढाए Traṭaka posture increase eyesight – अनेक लोगो की आँखों में कम उम्र में ही चश्मा लग जाता है और चश्मे का नंबर बढ़ते जाता है. ऐसे लोगो के लिए त्राटक आसन बहुत ही फायदेमंद होता है. इस आसान को करने से आँखों की रौशनी बढ़ती है जिससे आँखों पर लगा चश्मा निकल जाता है.

त्राटक आसन करने की विधि The method of Traṭaka posture

त्राटक आसन को करने के लिए किसी अँधेरे कमरे का चुनाव करें. इस आसान को रात में करना फायदेमंद होता है.
त्राटक आसन को करने के लिए अँधेरे कमरे में एक मोमबत्तियो जलाये.
अब इस मोमबत्ती के सामने प्राणायाम की स्थिति में बैठ के बिना पलकें झपकाए मोमबत्ती को देखते रहें.
इसके बाद आँखे बंद करके ओम का उच्चारण करें और फिर आंख खोल लें.
इस क्रिया को तीन बार करें.
इसके बार अपनी दोनों हथेलियों को आपस में रगड़े.
अब अपनी गर्म हथेलियों से अपनी आँखों को स्पर्श करें और आँखे खोल लें.
जब भी आप आँखे खोले तो आपकी नजर आपकी नाक पर होनी चाहिए. इस आसान को हफ्ते में कम से कम तीन बार करें.
देव ज्योतिमुद्रा Dev Jyotimudraa increase eyesight – देव ज्योतिमुद्रा आँखों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है. जो लोग योग आदि नही कर सकते उनके लिए देव ज्योतिमुद्रा लाभदायक होता है. देव ज्योतिमुद्रा को हांथो की उंगलियो द्वारा किया जाता है. यह आँखों की रौशनी को बढ़ाने के लिए बहुत ही सरल लाभदायक मुद्रा होती है.

देव ज्योतिमुद्रा करने की विधि The method of Dev Jyotimudraa

देव ज्योतिमुद्रा को करने के लिए सबसे पहले तर्जनी ऊगली को मोड़कर अंगूठे की जड़ में लगाए.
इस मुद्रा को 40-60 सेकंड तक ऐसे ही रहें. इस मुद्रा को सुबह-शाम कम से कम 6 बार करें.
अनुलोम विलोम प्राणायाम है आँखों के लिए लाभदायक Anulom vilom pranayama beneficial for the eyes – अनुलोम विलोम प्राणायाम से हम अपनी आँखों की तमाम समस्यायों को आसानी से समाप्त कर सकते हैं और इस आसान को करने से आँखों की रौशनी भी बढ़ती है. इस आसान को कोई भी व्यक्ति कर सकता है.

अनुलोम विलोम प्राणायाम करने की विधि The method of Anulom vilom pranayama

अनुलोम विलोम प्राणायाम को करने के लिए सबसे पहले पालकी मोड़कर बैठ जाए.
अपनी कमर और गर्दन को सीधा रखें.
अब अपनी आंखें बंद कर लें.
अब अपने हाथो को नासारन्ध्र यानि नाक के छेद के पास लें जाए.
अब अपनी बीच की अंगुलियों को सीधा रखते हुए अंगूठे से दाएं नासारन्ध्र को बंद कर लें.
अब अपने सीधे हाथ को नासारन्ध्रों पर ले जाएं और बाएं नासारन्ध्र से धीरे-धीरे सांस को बाहर की ओर निकालें.
सांस छोड़ने के बाद अब बाएं नासारन्ध्र से ही सांस भरना प्रारंभ करें.
अधिक से अधिक सांस भरने के बाद बाएं नासारन्ध्र को अंगुलियों की मदद से बंद कर लें व अंगूठे को दाएं नासारन्ध्र से हटाकर दाईं नाक से सांस को धीरे-धीरे बाहर निकालें.
इसे कम से कम पांच मिनट तक करते रहें इससे आँखों की रौशनी आसानी से बढ़ाई जा सकती है.

आँखों की रौशनी बढ़ाने के लिए कुछ आसान एक्सरसाइज SOME SIMPLE EXERCISES INCREASE EYESIGHT

व्यायाम 1 (exercises – 1) –

अपनी आँखों की रौशनी बढ़ाने के लिए अपने दोनों जथो को आपस में रगड़े. अब इन गर्म हाथो को अपनी आँखों पर रखें. थोड़ी देर बाद हाथो को आँखों से हटाये. फिर धीरे-धीरे आँखों को खोले. इससे आँखों का स्ट्रेस समाप्त हो जाता है.

व्यायाम 2 (exercises – 2) –

आँखों का फोकस बढाने के लिए किसी ऐसे टारगेट को चुने जो आपकी नजरो से दूर हो. अब इस टारगेट को देखने की कोशिश करें. रोजाना करीब दस मिनट तक इस व्यायाम को करे. इससे दूर की नजर तेज होने लगती हैं.

व्यायाम 3 (exercises – 3) –

अपनी पलको को झपकाकर आप आँखों पर देर तक रहने वाले तनाव को कम कर सकते है. करीब तीन चार सेकंड तक अपनी पलको को झपकाते रहे. फिर अपनी आँखों को तेजी से बन्द कर लें. कुछ देर बाद अपनी आँखों को खोले. इससे आँखों को आराम मिलता है.

व्यायाम 4 (exercises – 4) –

अपनी गर्दन को सीधा रखें. अब अपनी आँखों की पुतलियों को पहले 4-6 बार ऊपर नीचे और फिर दाएं-बाएं घुमाएं. इसके बाद क्लॉकवाइज और एंटी-क्लॉकवाइज की स्थिति में कम से कम 6 बार आँखों को दाएं-बाएं गोलाई में घुमाइए.

यूरिक एसिड में क्या खाएं और क्या नही खाना चाहिए

यूरिक एसिड में क्या खाएं और क्या नही खाना चाहिए……

 

 

शरीर में अगर यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है तो आपके शरीर में जोड़ों में सूजन और दर्द की समस्या होने लगती है| अगर इसका सही समय पर इलाज न किया जाए तो यह गठिया का रोग बन सकता है| जिससे बैठने उठने व चलने फिरने में समस्या होने लगती है| शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा अधिक होने से कई तरह की बीमारियां होने लगती है जैसे की गठिया और गाउट|

जब आप का शरीर पूरी तरह से वैशिले पदार्थ को बाहर नहीं निकाल पाता है, तब आपके शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने लगता है| यूरिक एसिड बढ़ने पर ये क्रिस्टल का रूप धरण कर लेता है| जिसे गाउट कहते है| इसलिए यूरिक एसिड के स्तर को बनाना बहुत जरूरी होता है| इसे कंट्रोल करने के लिए आपको अपने खाने-पीने पर ध्यान देना होगा| कुछ लोग हाई यूरिक एसिड का लेवल कम करने के लिए रामबाण घरेलू उपाय और दवा का सहारा लेते है|

लेकिन इसके साथ ही साथ रोगी को अपने आहार (डाइट) पर ध्यान देना चाहिए| ऐसे में रोगी को इस बात की जानकारी होना चाहिए की यूरिक एसिड बढ़ने पर क्या खाएं क्या न खाए| डाइट में बदलाव व जरूरी परहेज यूरिक एसिड को कम कर सकते है| आज इस लेख में हम बतायेंगे कि यूरिक एसिड कितना होना चाहिए और इसे कैसे कम करे

यूरिक एसिड की मात्रा कितनी होना चाहिए
महिलाओं में इसका लेवन 2.4 से 6.0 mg/dl और पुरुषों में 3.4 से 7.0 mg/dl होना चाहिए|
किडनी में खराबी होने की वजह से यूरिक एसिड शरीर से बाहर नहीं निकल पाता और शरीर में ही जमा होने लगता है|
यूरिक एसिड क्यों बढ़ता है, हाई प्रोटीन और शुगर वाले फूड ज्यादा खाने से शरीर में यूरिक एसिड का लेवल बढ़ने लगता है| जेनेटिक कारणों से भी कुछ लोगों का यूरिक एसिड हाई होता है|

शरीर में पाचन के दौरान डाइट में जो प्रोटीन होता है| उससे प्यूरिन बनता है| और प्यूरिन को यूरिक एसिड बनाता है| जो की मूत्र मार्ग के रास्ते से बाहर निकलता है लेकिन जब यह शरीर में जमा होने लगता है तब अन्य समस्याएं होने लगती है|

यूरिक एसिड बढ़ने के लक्षण –
शरीर में किसी जोड़ में गांठ होना|
उठते और बैठते समय घुटनों और जोड़ों में दर्द होना|
शरीर के किसी भी जोड़ में सूजन आने लगती है|
यूरिक एसिड बढ़ने की वजह से पैर की एड़ियों और अंगूठे में दर्द होने लगता है|
शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने की वजह से शरीर में जोड़ों और पैरों में दर्द महसूस होता है|

यूरिक एसिड में क्या खाएं
आप अपने आहरा में एंटी ओक्सिडेंट से भरपूर फूड सेवन करे| ये आपके शरीर में से फ्री रेडिकल्स के असर को कम करता है| ब्लूबेरी, टमाटर, लाल शिमला मिर्च, अंगूर और ब्रॉकली में विटामिन और एंटी ऑक्सीडेंट ज्यादा होते है|
सेब के सिरके के 2 से 3 चम्मच एक गिलास पानी में मिला कर पीने से बहुत फायदा मिलता है|

यूरिक एसिड को कंट्रोल में करने के लिए नारियल पानी का सेवन करे|
ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करे इससे शरीर में जमा यूरिक एसिड पेशाब के रास्ते से बाहर निकल जाता है| रोजाना 3 से 4 लिटर पानी पिए|
विटामिन सी शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने से रोकता है और इसे कम करने में भी मददगार है| आप अपनी डाइट में विटामिन C से भरपूर फल और फूड शामिल करे जैसे संतरा व नींबू| शरीर साफ करने के लिए नींबू पानी पिए|
हाई यूरिक एसिड को कम करने के लिए लौकी का जूस एक अच्छा घरेलू उपाय है| सुभा को खाली पेट एक गिलास लौकी का जूस सेवन करे| जुड़ बनाते समय तुलसी और पुदीने के 5-5 पत्ते डाले|
आप अपनी डाइट में ऐसे आहार शामिल करे जिसमें फाइबर अधिक मात्रा में होते है यूरिक एसिड को कम करने में फायदेमद है|
रात को सोने से पहले 1 चम्मच अर्जुन की छाल का चूरन और आधा चम्मच दालचीनी का पाउडर 1 गिलास पानी में मिलाकर इसे अच्छे से उबाल लें फिर इसे छाने और सेवन करे| इस घरेलू नुस्खे को 90 दिन लगातर करने पर यूरिक एसिड कंट्रोल में आने लगेगा|
खाना बनाते समय जैतून के तेल का इस्तेमाल करे, जैतून का तेल बॉडी में यूरिक एसिड को बढ़ने से रोकता है|
सेब, चुकंदर और गाजर का जूस रोजाना सेवन करने से बॉडी का ph लेवल बढ़ने लगता है और यूरिक एसिड कम होने लगता है|

यूरिक एसिड में क्या नहीं खाना चाहिए –
डिब्बा बंद आहार से भी यूरिक एसिड बढ़ता है, कोल्ड ड्रिंक, फास्ट फूड और चिप्स खाने से बचे|
अंडे में प्रोटीन और फैट ज्यादा होता है| और इस बीमारी में प्रोटीन का सेवन करने से परेशानी बढ़ सकती है|
रात को सोने से पहले दूध और दाल का सेवन न करे|
यूरिक एसिड के बढ़ने पर non veg खाने का सेवन न करे| नॉन वेज खाना खाने से शरीर में यूरिक एसिड लेवल बढ़ने लगता है|
शराब और धूम्रपान से भी यूरिक एसिड बढ़ने लगता है| और इससे शरीर को नुकसान होता है|
खाना खाते समय पानी न पिए| खाना खाने से 1 घंटा पहले और बाद में ही पानी पिए|
बेकरी से बनी हुई चीजों का सेवन करने से बचे|
दाल व चावल का सेवन करने से यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने लगती है|
पालक, चावल, दही, आचार, ड्राई फ्रूट्स खाने से बचे|

दोस्तों यूरिक एसिड में क्या खाएं और क्या नही खाना चाहिए का यह लेख आप को कैसा लगा हमें कमेंट करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें|